अनुनाद

अनुनाद

आलोचना / समीक्षा

शमशेर से साझा

कुछ बातरतीब बातों की एक बेतरतीब पड़ताल हर युवा कवि अपनी रचना और विचार-प्रक्रिया में ख़ुद को पूर्वज कवियों से साझा

Read More...

काव्य-कथा : बोरहेस और हिमालयाः टुनाईट आयम नॉट ए मंक / गिरिराज किराड़ू

(पिछले दिनों मैंने देखा ऑल जस्टीफाईड छपी हुई, ‘गद्य’ ‘दिखती’ हुई कवितायें वेब पर प्रकाशित होने पर कुछ लोगों को लगा

Read More...

उम्मीद और नाउम्मीदी के बीच एक छोटा-सा “या” (शैलेय का कविकर्म) – शिरीष कुमार मौर्य

(यह समीक्षानुमा छोटा लेख अनुनाद पर लगाए जाने से पहले एक-दो पत्रिकाओं में छप चुका है) शैलेय के कविता संकलन पर

Read More...
error: Content is protected !!
Scroll to Top