अनुनाद

अनुनाद

कथेतर गद्य

हिन्दी साहित्य और न्यू मीडिया- लीलाधर मंडलोई से मेधा नैलवाल का साक्षात्कार

मेधा नैलवाल – हिंदी साहित्य और न्यू मीडिया के संबंध को आप किस तरह देखते हैं ? लीलाधर मंडलोई– हिन्‍दी और न्‍यू

Read More...

हिन्दी साहित्य,न्यू मीडिया एवं प्रकाशक/प्रकाशन – कुमार अनुपम और आमोद माहेश्‍वरी से मेधा नैलवाल की बातचीत

  हिन्दीसाहित्य,न्यू मीडिया एवं प्रकाशक/प्रकाशन : कुमार अनुपम-  (साहित्य अकादमी,दिल्ली)  साक्षात्कार                                                    छवि – 5

Read More...

समालोचन @ १० : बड़ी मुश्किल से होता है चमन में दीदावर पैदा – सुशील कृष्ण गोरे

हिन्‍दी में ब्‍लॉगिंग के मायने ठीक वही कभी नहीं रहे, जो अंग्रेज़ी में हैं या जो उसके तकनीकी मायने भी हैं।

Read More...

यहां कविता में पुराने छंद चाहे न आ रहे हों किन्तु उन छंदों की लय आज भी बची हुई है – वरिष्ठ आलोचक जीवन सिंह से महेश पुनेठा की बातचीत/3

                                      महेश चंद्र पुनेठा – आप कविता के केंद्र में मनुष्य भाव को मानते हैं.कविता ही मनुष्य भाव की रक्षा

Read More...
error: Content is protected !!
Scroll to Top