अनुनाद

अनुनाद

All Blogs

रामजी तिवारी की कविताएं

मैं ब्‍लागपत्रिकाओं में लगातार रामजी तिवारी की कविताएं पढ़ता रहा हूं। उनकी कविताओं में बोली-बानी अलग है…ठेठ देशज संस्‍कार वाली। उनमें ईश्‍वर और मिथक-पुराणों का

Read More »

नरेश चन्‍द्रकर की कविताएं

नरेश चन्‍द्रकर मेरे प्रिय अग्रज कवि हैं। उनकी आवाज़ इतनी शान्‍त, गहरी और मद्धम है कि कम ही सुनाई देती है। हिंदी कविता के नाम

Read More »

मनोज की कविता पर कुछ नोट्स, जिन्‍हें शायद कविता होना था ….

मनोज कुमार झा के पहले कविता संग्रह पर इस समीक्षा को कविसाथी अरुण देव ने अपनी ब्‍लागपत्रिका समालोचन के लिए किसी ज़िद की तरह लिखवाया

Read More »

शिक्षक दिवस पर मेरे प्रिय समाज-राजनीति-साहित्‍य शिक्षक की याद

मेरे प्रिय समाज-राजनीति-साहित्‍य शिक्षक अपनी उधेड़बुनों में एक अज्ञानी कई तरह से उलझता है….मैं भी उलझता हूं….अगर ये उलझनें सच्‍ची हैं तो इनसे बाहर निकालने

Read More »

‘वह’ संधिकाल जहाँ एक उम्मीद मिल रही है – कवि की पसन्‍द : कुमार अम्‍बुज

अग्रज और वरिष्‍ठ कवि विनोद कुमार शुक्‍ल के प्‍यारे-से नए कविता संग्रह ‘कभी के बाद अभी’ का शीर्षक बहुत आभार और विश्‍वास के साथ उधार

Read More »

विपिन चौधरी की कविताएं

विचित्र लेकिन बहुत सुन्‍दर है आज की, अभी की हिंदी कविता का युवा संसार….कितनी तरह की आवाज़ें हैं इसमें….कितने रंग-रूप…कितने चेहरे…अपार और विकट अनुभव, उतनी

Read More »

‘मदर इंडिया’ और ‘हम मांस के थरथराते झंडे हैं’

ये हमारे समय के दो महत्‍वपूर्ण युवा कवि और उनकी कविताएं हैं। कवियों ने इन्‍हें अलग-अलग समयों, स्‍थानों और तनाव में सम्‍भव किया है। गीत

Read More »
error: Content is protected !!
Scroll to Top