अनुनाद

अनुनाद

आलोचना / समीक्षा

माधवी : पौराणिक कथा के बहाने स्त्री देह पर सत्ता और ताकत की राजनीति का भंडाफोड़ – सुजाता

भीष्म साहनी के नाटकों में शायद “माधवी” ही है जिसकी चर्चा सबसे कम हुई है बावजूद इसके कि वह पौराणिक कथा

Read More...

कविता की उम्मीदों का लालिमा भरा चेहरा – अनिल कार्की के कविता संग्रह ‘उदास बखतों का रमोलिया’ पर महेश चंद्र पुनेठा का लेख

अनिल कार्की संभावनाओं का एक नाम है और महेश पुनेठा सुपरिचित कवि-समीक्षक। महेश पुनेठा का अनिल के संग्रह पर लिखना सुखद

Read More...

जुगलबंदी: लीलाधर जगूड़ी की लम्बी कविता “बलदेव खटिक” एवं वीरेन डंगवाल की बहुचर्चित कविता “रामसिंह’ को साथ-साथ पढ़ते हुए – पृथ्वीराज सिंह

पृथ्वीराज सिंह को सोशल मीडिया पर मैंने कविता पर उनकी कुछ सधी हुई टिप्पणियों से जाना। कविता की उनकी पढ़त और

Read More...

अवरोह / विजेताओं से भरे इस विश्व में, प्रेम एक पराजय का नाम है – सुबोध शुक्ल : प्रस्तुति – आशीष मिश्र

आशीष मिश्र की ओर से मुझे यह सुखद संचयन प्राप्त हुआ। इसे भेजते हुए आशीष ने लिखा है –”मैंने सुबोध जी

Read More...

एक पागल आदमी की चिट्ठी-सी विकल कविता – विमलेश त्रिपाठी की दो लम्बी कविताओं पर रसाल सिंह का लेख

विमलेश त्रिपाठी समकालीन समय के सर्वाधिक संभावनाशील और विश्वसनीय युवा साहित्यकार हैं। उन्होंने हम बचे रहेंगे, एक देश और मरे हुए

Read More...
error: Content is protected !!
Scroll to Top